Tuesday, June 11, 2013

बुजुर्ग नहीं हैं बोझ !

                                                               - स्वप्ना  सिन्हा                                                                       
                      अपने  बच्चों  की  ऊँगली  पकड़कर  चलने  सिखानेवाले  हाथों  को  बुढ़ापे  में  अपने  बच्चों  के  ही  मजबूत  हाथों  के  सहारे  की  जरुरत  होती  है। यह सहारा  और  अपनापन  बुजुर्ग  सदस्यों  में  नयी  ऊर्जा भर  देता  है।  पर  आज  के   बदलते  परिवेश , परिस्थिति  एवं  जीवनशैली  में  बुजुर्ग  धीरे - धीरे  अकेले  होते  जा  रहे  हैं।
                     फास्ट  लाइफ  स्टाइल  है  जिम्मेदार ---  आधुनिक  बदलती  लाइफ   स्टाइल  में  लोगों  की  जिंदगी   भागदौड़  भरी  होती  है।  बदलते   समय  एवं  हालत  में  एक   फैमिली   में  जहाँ  हसबैंड- वाइफ  दोनों  कामकाजी  हैं , घर  के  बुजुर्ग  माता -पिता  अकेले  पड़  जाते  हैं। हसबेंड-वाइफ  दोनों  दिनभर  ऑफिस, फिर  घर  और  बच्चो  की देखभाल  करते  हैं। इसके  बाद उनके  पास  इतना  टाइम  नहीं  बचता  है  कि  वे  बुजुर्गों  को  ज्यादा  समय  दे  सकें।

                    सिंगल  फैमिली  का  चलन ---  पहले  जॉइंट  फैमिली  के  कारण  बुजुर्ग  परिवार  के  सभी सदस्यों  के  साथ  घुल मिलकर  रहते थे।  इससे  उनका  समय  अच्छे  तरीके  से  कटने  के  साथ-साथ  वे  भी   खुश  रहते  थे। पर  सिंगल  फैमिली  का  चलन  बढ़ने  के  कारण  उनसे  बात  करने  के  लिए  किसी  के  पास   समय  नही  हैं। सभी  अपने अपने  काम  में  व्यस्त  रहते  हैं- चाहे  बेटा-बहू   हो  या  पोता- पोती।  उनका   बिजी  रूटीन  उन्हें  अपने  माता-पिता  से  ही  दूर  कर  देता  है।

                     देखभाल  बोझ  नहीं --- यह  सही  है  कि  आज  की  भागदौड़  भरी  ज़िन्दगी  के  कारण  लोगों  के  पास  समय  की  कमी  है। बुजुर्गो  की  देखभाल  करना  आज  की  व्यस्त  पीढ़ी  को  बोझ  की  तरह   लग  सकता  है।  क्या  आपने  कभी  सोचा  है  कि  जब  आप  छोटे  थे  तो  उन्होंने  अपने  व्यस्त  रूटीन  लाइफ   से  समय  निकलकर  आपकी  देखभाल  की  होगी। उनकी  देखभाल  करना  आपका  भी  तो  फर्ज  बनता  है। बुजुर्ग  दो  मीठे  बोल  सुनने  के  लिए  लालायित  रहते  हैं,  तो  क्यों  न  अपने  व्यस्त  लाइफ  स्टाइल  से  थोडा  सा  समय उनके  लिए  भी  निकाले।

                     आपके  मार्गदर्शक ---  बुजुर्गों   को  जीवन  के  हर  काम  का  तजुर्बा  रहता  है, जिसका  आप   लाभ  उठा  सकते  है।  जीवन  में  कभी  किसी  प्रॉब्लम  में  हो  तो  उनसे  सलाह  लें। वे  अपने  तजुर्बे  से  आपको  गाइड  कर  सकते  हैं। चूँकि  आपने  अभी  ज़िन्दगी  शुरू  ही  की  है, इसीलिए  आपको  जीवन  की  अनेक  समस्याओं   से  रूबरू  होना  बाकी  है।  ऐसे  समय  में  बुजुर्गो  से  सलाह  आपकी  प्रॉब्लम  सॉल्व  करेगी ।  चूँकि  उन्हें  बच्चो  को पालने  का  अच्छा  एक्सपिरियेंस  होता  है,  इसीलिए  इस  दिशा  में  बुजुर्ग  अच्छे   मार्गदर्शक  सिद्ध  होते  हैं। उनका  स्नेहिल  स्पर्श, आत्मीयता  भरी  बातें  और  देखभाल  आपके  बच्चे  को  एक  प्रोटेक्टिव  वातावरण  प्रदान  करती  है।  तो  क्यों  न  ऐसे  मार्गदर्शक  का  आप  भी  केयर  करें !!

                                                                    इसी  लाइफ  में . फिर  मिलेंगे।

Tuesday, April 16, 2013

लघु  कथा  -
प्रैक्टिकल  समधी 
                                                           
                                                                                       - स्वप्ना  सिन्हा                     
                    उनके  बेटे  की  शादी  की  बात  चल  रही  थी। कई  अच्छे  घरों  से  रिश्ते  आ  रहे  थे। एक  ऐसे  सज्जन  के  यहाँ  से  भी  रिश्ता  आया  था, जो  बैंक  मैनेजर  के  पद  पर  कार्यरत  थे। उन्होंने  सोचा  कि  बैंक  मैनेजर  के  यहाँ  रिश्ता  करने  से  बहू  के  साथ - साथ  लक्ष्मी  स्वतः  आ  जायेगी। पता  चला  कि  लड़की  सुन्दर, सुशील  और  पढ़ी - लिखी  है। लड़की  का  फोटो  मांगा गया। वाकई, लड़की  बहुत  ही  सुन्दर  थी। उन्हें  ऐसी  ही  लड़की  की  तलाश  थी। शादी  की  बात  आगे  बढ़ायी  गयी, पर  उनकी  पत्नी  ने  कहा  कि   केवल  लड़की  सुन्दर  होने  से  ही  नहीं  होगा।  उसमें  संस्कार  के  साथ  परिवार  का 'स्टैंडर्ड ' भी  होना  चाहिये। जरा  घर - परिवार  के  बारे  में  भी  मालूम  करना  पड़ेगा।पत्नी  की  बात  उन्हें  सही  लगी।
                    इसी  बीच  उनके  एक  मित्र मिलने   के  लिए  आये।  बातों  ही  बातों  में  उन्होंने   इस  रिश्ते  की  चर्चा  की। मैनेजर  साहब  का  नाम  सुनकर  उनके  मित्र  ने  कहा, " वे  तो  बहुत  ही  सज्जन  और  विनम्र  व्यक्ति  हैं, साथ  ही  ईमानदार और  कर्तव्यनिष्ठ  भी  हैं। मुझे  एक  लोन  लेना  है, पर  वे  तो  नियम - कानून  में  अटके  हुए  हैं। यदि  आपके  यहाँ  रिश्ता  हो  जाता  है  तो  मेरा  काम  शायद  बन  जायेगा। "
                    उनके  मित्र  चले  गये, पर  अब  उनका  माथा  ठनका। उन्होंने अपने  एक  परिचित  से, जो  उस  बैंक  में  कार्यरत  थे, पूछताछ  की। पता  चला  कि  सचमुच  मैनेजर  साहब  ईमानदार , कर्त्तव्यनिष्ठ  और  आदर्शवादी  हैं। शर्माजी  दु:खी  हो  गये। सब  कुछ  तो  ठीकठाक  ही  था , पर  मैनेजर  साहब  की  ईमानदारी  आदर्शवाद  ने  शर्माजी  को  आहात  कर  दिया।
                    अब  शर्माजी  बेटे  की  शादी  के  लिए  अन्यत्र  बात  कर  रहे  हैं। सुना  है , होनेवाले  समधी  बहुत  ही  प्रैक्टिकल  और  समय  के  साथ  चलने वाले  अधिकारी  हैं।

                                                                            इसी  लाइफ  में . फिर  मिलेंगे।


                   

Thursday, March 21, 2013

कविता : अपने पद्चिन्ह


                                                              - स्वप्ना  सिन्हा
वह
एक  स्त्री ,
जिसकी  नहीं  अपनी  पहचान ,
पहचानी  जाती
दूसरों  के  नामों  से।
रिश्तों  के  डोर  से  बंधी
वह  है
एक  माँ , बहन , पत्नी , बेटी !

खोज  रही  वह
अपनी  एक  पहचान ,
झूल  रही  वह
अपने  होने - न  होने  के  बीच।
लड़  रही  एक  लड़ाई
अपने  अस्तित्व  के  लिए ,
बता  रही  दुनिया  को
हाँ,
वह  है !

चलती  रही
दूसरों  के  पद्चिन्ह  पर ,
आज
कोशिश  में  है  गढ़ने  को
अपने  ही  पद्चिन्ह !!!

                                                                 इसी लाइफ  में . फिर  मिलेंगे।

Friday, March 8, 2013

आधी आबादी - हौसले हैं बुलंद

                                                                                 - स्वप्ना  सिन्हा

                      आँखों  में  सपने,  सामने  खुला  आसमान,  सर  उठाकर  जीने  की  चाहत - यह  है  आज  की  नारी,  जो  हर  क्षेत्र  में  पुरुषों  की  बराबरी  में  खड़ी है। आज  नारी  सशक्त हुई है, स्वावलंबी  हुई है, जागरूक  हुई  है। विपरीत  हालातों  में  भी  बुलंद  हौसलों  से  नयी  इबारत  लिख  रही  है। अभी  तो  उसके  बढ़ते  कदम  को  रास्ता ही  मिल  पाया  है - फिर भी  हर  एक  को  मंजिल  मिलना  बाकि  है। कुछ  बाधाएं  अब  भी  हैं   राहों  में। लेकिन  उनके  बुलंद हौसले  कहते  हैं  कि  हम  होंगे  कामयाब !

                    शिक्षा  से  बदली  तक़दीर -  अब  नारी  को  समझ  में  आने  लगा है कि शिक्षा  के  बिना स्वतंत्रता  या  अधिकार  की  बात  करना  बेकार  है। पहले  पुरुष  जो  निर्णय  लेते  थे  उसे  ही  वह  मानती  थी , जिससे  वह  मानसिक  एवं शारीरिक  रूप  से  पुरुषों  द्वारा  शोषित  होती  थी। शिक्षित  होने  से  उसे  सही - गलत  की  पहचान  होने  लगी। स्त्री  शिक्षा  नारी  सशक्तिकरण  की  दिशा  में  एक  महत्वपूर्ण  कदम  है।  रिपोर्ट ऑफ  कंसल्टेटिव  कमेटी  ऑफ  पार्लियामेंट , 2006  के  अनुसार  1950  में  100  पुरुषों  के  मुकाबले  मात्र  14  महिलाएं  उच्च  शिक्षा  प्राप्त  करती  थी। अब  स्त्री - पुरुष  उच्च  शिक्षा  का  अनुपात  68 : 100  हो  गया  है। शहरी  क्षत्रों में  वर्ष  2009- 2010  में  स्नातक  या  उच्च  शिक्षा  प्राप्त  गृहणियां  57%  थीं, तो  ग्रामीण  क्षत्रों  में  प्राथमिक - माध्यमिक  स्कूल तक  पढ़ी  31% गृहणियां  थीं। 

                    कुछ  कर  दिखाने  का  जज्बा -  आज  की  स्त्री  में  इतनी  हिम्मत  और  जोश  है  कि  हर  मुश्किल  को  पार  कर उसने  अपनी  एक  अलग  पहचान बनायी  है। डॉक्टर , इंजीनियर , वैज्ञानिक , पायलट , पत्रकारिता  से  लेकर  पुलिस  सेवा  में  जाना  उनके  लिए  आम  बात  है।प्रधानमंत्री  और  राष्ट्रपति  पद  से वे  देश  की  सेवा  कर  चुकी  हैं। आज  देश  की  आर्थिक  गतिविधियों  में  31%  से  ज्यादा महिलाएं  योगदान  दे  रही  हैं। उद्योग  जगत  के  कुल  कार्यबल  में  महिलाओं  की  संख्या  लगभग  40%  है। खेल  के  मैदान  में  भी  अपनी  अलग पहचान छोड़  रही  हैं , जिसका  ताजा  उदाहरण  लंदन  ओलंपिक  में  देखने  को  मिला। 

                     अधिकारों  के   प्रति  सजग -  आधुनिक  नारी  अपने  अधिकारों  के  प्रति  बेहद  सजग  है। वह  अपने  ऊपर  हो  रहे  अन्याय  के  विरूद्ध  न  केवल  आवाज  उठाती  है  बल्कि  अपने  हक  के  लिए  लड़ना  भी  जानती  है। वह  परिवार  के  साथ - साथ  समाज  के  प्रति  भी  अपने  कर्तव्य  निभाती  है। समाज  की  समस्यायों  को  जानती  है  और   उसे  दूर  करने  में  सहयोग  देती  है। शहरों  की  महिलाओं  के  साथ - साथ  ग्रामीण  महिलाएं  भी  जागरूक  हो  रही  हैं। वे  शिक्षित  होने  के  साथ - साथ  अपने  अधिकारों  एवं  अस्तित्व  के  लिए  आवाज  उठाने  लगी  हैं।

                    फिर  भी  हालत  ठीक  नहीं -  यद्दपि  महिलाएं  सशक्त  हुई  हैं, अनेक  बाधाओं  को  पार  करते  हुए  एक  मुकाम  हासिल  किया  है। फिर  भी  अनेक  क्षेत्रों  में  उनकी  स्थिति  ठीक  नहीं  है।।सेहत  के  मामले  में  महिलाओं  की   स्थिति  बहुत  ही  ख़राब  है।  लगभग  120  देशों  की  सूची   में  बच्चे  पैदा  होते  समय  मरनेवाली  माँयें   भारत  में  सबसे  ज्यादा  हैं । हर  साल  गर्भावस्था  के  दौरान  1.36  लाख  महिलाएं  मर  जाती  हैं। 

                    जरुरत  है  सम्मान  की -  आज  महिलाओं  के  हौसले  का  कोई  जवाब  नहीं ! उन्होंने   मुश्किलों  से  लड़कर  जीना  सीख  लिया  है। विपरीत  हालात  के  बीच  वे  नित  नए  मुकाम  हासिल  कर  रही  हैं। पर  आज  भी  समाज  में  उन्हें  उचित  सम्मान  नहीं  मिल  पाया  है, जिसकी  वह  हक़दार  हैं।  तभी  तो   वे  शोषण,  अत्याचार, बलात्कार  आदि  की  शिकार  हो  रही  हैं।समाज  में  लोग  जबतक  स्त्री  को  सम्मान  की  दृष्टि  से  नहीं  देखेंगे, तबतक  स्त्री  पर  ऐसे  अत्याचार  होते  रहेंगे। अधिकार,  सम्मान  और  सुरक्षा  मिले  तो  एक  स्त्री  क्या  नहीं  कर  सकती !

                    समय  के  साथ  हालत  बदल  रहे  हैं,  इसमें  कोई  शक  नहीं  है। लेकिन अभी  भी  ये  बदलाव  मिसालें  भर ही  हैं। कानून, संविधान  और  समाज  सब  कुछ  है , पर  सच  यह  है  कि अपनी  जगह  बनाने  के  लिए  स्त्रियों  की  जंग  आज  भी  जारी  है। जैसा  कि हम  सभी  जानते  हैं  कि  देश  के  संसद  में  केवल  10%  महिला  सदस्य  हैं, जबकि  अमेरिका  में  यह  आंकड़ा  17%  है। अर्थात  तस्वीर  काफी  हद  तक   बदली  है, पर  सफ़र  तय  करना  अभी  भी  बाकी  है। आशा  है , आनेवाले   दिनों  में  हर  नारी  मजबूत  पंख  लिए  खुले  आसमान  में  स्वयं  उड़कर  खुद  की  एक  अलग  पहचान  बनाएगी। उनके  जोश  और  जज्बे  को  सलाम !!
                                                                            
                                                                            इसी  लाइफ  में . फिर  मिलेंगे।

Thursday, January 31, 2013

खुशियों भरी जिंदगी

                                                                                - स्वप्ना  सिन्हा
                 
                    खुशी !! एक  ऐसा  शब्द  जिसका  अपनी  जिंदगी  में सभी  बेसब्री  से  इंतजार  करते  हैं। खुशियों  का  हम  पर  जादू  सा  असर  होता  है , इसलिए  हम  अपने  जीवन  को  अधिक  से  अधिक  खुशियों   से  भर  लेना  चाहते  हैं। खुश  और  जिंदादिल  रहनेवाले  लोग  बिना  वजह  के  भी  खुश  रहते  हैं और  जिंदगी  से  प्यार  करते  हैं। खुशियों  में  आनंदित  होने  के  साथ - साथ  दुःख  का  हंसकर  सामना  हिम्मत  से  करनेवाले  सही  मायने  में  खुश  रहनेवाले  कहलाते  हैं।

                    जीवन  में  खुशियों  के  प्रभाव  के  बारे  में  कई अध्ययन  किये  गये  हैं --
* वैज्ञानिक  डॉ . कोहेन  के  अनुसार , " खुशमिजाज  रहनेवाले  लोगों  की  प्रतिरोधक  क्षमता  बेहतर  होती  है। "
* मनोवैज्ञानिक  सेलिगमैन  के  अनुसार  भी , " खुश  रहनेवाले  व्यक्ति  का  केवल  मन  ही  खुश  नहीं  रहता , वरन  वे  अपनी  विपरीत  परिस्थितियों  को  भी  अनुकूल  परिस्थिति  में  बदल  लेते  हैं। मुश्किलों  के  दौर  में  खुशमिजाज  रह  कर  उन  मुश्किलों  का  सामना  करना  बहुत  आसान  होता  है। "

                    खुश  रहने  के  प्रभावों  का  आकलन  करें  तो पाते   हैं  कि  यह  हमारे  जीवन  को  कई प्रकार  से संवारती  है। खुशमिजाज  लोग  अपनी  जिंदगी  में  बहुत  सफल  होते  हैं। वे  उम्मीद  का  दामन  कभी  नहीं  छोड़ते  और  दुःख भरे  पलों  का  सामना  अच्छी  तरह  से  कर  पाते  हैं। ऐसे  लोगों  की  प्रतिरोधक  क्षमता  अधिक  होती  है  और  कम  बीमार  पड़ते  हैं। साथ  ही , अन्य  लोगों  के  साथ  उनके  रिश्तों  की  डोर  बहुत  मजबूत  होती  है।

                    खुशहाल  जिंदगी  के  लिए  भौतिक  सुखों  के  अलावे  अपने  जीवन  की  सार्थकता  और  मन  की  संतुष्टि  बहुत  मायने  रखती  है - चाहे  वह  हमारे  विचार  हों , व्यवहार  हो , खान - पान  और  स्वास्थ्य  हो। साथ  ही  मुश्किलों  के  दौर  में  तनाव  होना  स्वाभाविक  है , पर  इसे  सकारात्मक  सोच  रखते  हुए  दूर  किया  जा  सकता  है। सकारात्मक  सोच  से  हमें  दुःख  से  उबरने  में  बहुत  मदद  मिलाती  है।

                    खुशियों  का  अनुभव  करना  बहुत  हद  तक  हम  पर  ही  निर्भर  करता  है। हमें  यह  सोचना  है   कि  पानी  से  आधे  भरे  ग्लास  को  हम  किस  नजरिये  से  देखते  हैं - आधे  भरे  हुए  ग्लास  को  देख खुश होते  हैं  या  फिर  आधे  खाली  ग्लास  को  देख  दु:खी !  जो  कुछ  हमारे  पास  नहीं  है , उसके  लिए  परेशान  होने  के  बजाए  जो  कुछ  है  उससे  संतुष्ट  होना  सीख  लें  हमारा  जीवन  खुशियों  से  भर  जायेगा।
खुशहाल  जीवन  जीने  का  नुस्खा  तो  हमारे  पास  ही  है , बस  जरुरत  है  अपने  नजरिये  और  सोच  में  बदलाव  की। फिर  तो  हम  जिंदगी  को  बिंदास  इंज्वाय  कर  सकते  हैं ! 

                                                                              इसी  लाइफ  में . फिर  मिलेंगे।                                                                                  

Monday, December 31, 2012

कविता : द्रौपदी की पुकार

                                                       - स्वप्ना  सिन्हा 

कृष्ण 
एक बार 
फिर से जन्म लो 
इस धरा  पर।
अवतार लिया तुमने 
द्वापर युग में,
पर 
तुम्हारी तो जरुरत है अधिक 
इस कलयुग में,
आज हजारों  द्रौपदियां 
पुकार रही हैं तुम्हें ,
हर गली मुहल्ले में 
मिल जाती है द्रौपदी 
पर मिलता नहीं कहीं 
एक भी कृष्ण।
सब ओर हैं 
दुर्योधन और दुःशासन ,
अगर कोई - कहीं है 
भीम, अर्जुन या  युधिष्ठिर,
कहाँ हैं - पता नहीं 
क्या कर रहे हैं - मालूम नहीं।
क्यों कि 
जब होता है 
चीरहरण और अत्याचार 
देखते  हैं सब मूक बने ,
जैसे वे हों  धृतराष्ट्र।
ऐसे में भी 
कृष्ण, 
क्या तुम्हे सुनायी नहीं देती 
एक भी द्रौपदी की पुकार ?
हे  कृष्ण ,
अब  तो  सुन  लो 
द्रौपदी  की पुकार !

                                                                     इसी  लाइफ  में . फिर  मिलेंगे।

Sunday, December 23, 2012

लघु कथा : समाज सेवक

                                                                                - स्वप्ना  सिन्हा 

                   वे एक  समाज  सेवक  हैं। उनके  लिए  समाज  सेवा  से  बढ़कर  कोई  धर्म  नहीं, कोई  कर्म  नहीं।  पूरे  शहर  में  वे  एक  सम्मानित  व्यक्ति  हैं। कभी  नारी - उत्थान  के  लिए  कार्य  करते  हैं  तो  कभी  बाल - श्रमिकों  के  लिए। आजकल  वे  एक  "बाल - श्रमिक  उन्मूलन  संस्थान "  के  अध्यक्ष  है। कभी  वे  सभा -  समिति  में  लोगों  को  संबोधित  करते  हैं , तो  कभी  लोगों  से  बातचीत  कर  उन्हें  जागरूक  करते  हैं  ताकि बच्चों  का  शोषण  न  हो , उन्हें  उचित  शिक्षा  मिल  सके  और  वे  एक  आदर्श  नागरिक  बन  सकें।
             
                    आज  वे  अपने  घर  पर  आठ - दस  कार्जकर्ताओं  के  साथ  'मीटिंग ' कर  रहें  हैं। उन्होंनें  कार्जकर्ताओं  को  समझाते  हुए  जोश  से  कहा , "  भाइयों  बच्चे  तो  भगवान  के  रूप  होते  हैं , पर  लोग  उनसे  मजदूरी  करवा  कर  बहुत  बड़ा  पाप  कर  रहे  हैं। ऐसे  लोगों  को  तो  भगवान  भी  माफ  नहीं  करेंगे। उन्हें  कालीन  उद्योग ,पटाखा  उद्योग  या  अगरबत्ती  उद्योग  में  काम  करवा  कर  उनका  पूरी  तरह  शोषण  किया  जाता  है। उन्हें  ऐसे  उद्योगों  से  छुड़ाना  है। इन  बाल - श्रमिकों  के  पुनर्वास  की  भी  व्यवस्था  करनी  है , ताकि  कोई  फिर  से  इनका  शोषण  न  कर  सकें। "

                  कार्जकर्ताओं  ने  कहा , " तब  तो  बहुत  अच्छा  होगा , लेकिन  हमें  क्या  करना  होगा ? "

                  उन्होंने  कहा , " सबसे  पहले  तो  बाल - मजदूरों  का  पता  चलते  ही  उन्हें  छुड़ाना होगा। उनके  मालिक  उन्हें  न  छोड़ें , तो  पुलिस  की  मदद  लीजिए। उनके  माता - पिता  को  भी  समझाना  होगा , ताकि  वे  अपने  बच्चों  से  मजदूरी  न  करवायें। इनके  पढ़ने - लिखने  की  व्यवस्था  करनी  होगी। सरकार  इसके  लिए  मदद  कर  रही  है। इस  दिशा  में  हर  नागरिक  को  सोचना  होगा। उन्हें  जागरूक  बनाना  होगा , जरुरत  पड़ी  तो  हम  इसके  लिए  आंदोलन  करेंगे। "

                   सभी  कार्यकर्ता  वाह - वाह  कर  उठे। वे  सभी  अध्यक्ष  महोदय  की  तारीफ  करने  लगे। अब  अध्यक्ष  महोदय  अंदर   की  तरफ  मुखातिब  होकर  बोले , " अरे , कोई  है ? चाय - पानी  तो  भिजवाओ।

                  एक  दस - बारह  साल  का  लड़का  चाय - नाश्ता  लेकर  आया। वह  मैले - कुचैले  कपड़े  पहने  हुए  एक  नौकर  के  तरह  लग  रहा  था। टेबुल  पर  चाय -  नाश्ते  का  ट्रे रखते  समय  ट्रे  का  संतुलन  बिगड़ गया। एक  चाय  का  कप  लुढ़क  गया  और  थोड़ी  सी  चाय  अध्यक्ष  महोदय  के  सफेद  कुर्ते  पर  गिर  पड़ी । अध्यक्ष  महोदय  ने  आव  देखा  न  ताव , उस  बच्चे  को  एक  लात  मारी। बच्चा  गिर  पड़ा।  वे  चीखे , "साले , काम  करना  नहीं  आता। दिनभर  मुफ्त  की  रोटी  तोड़ते  रहता   है। सोचा  कि  गरीब  का  बच्चा  है। मेरे  घर  रहेगा  तो  खा - पी  कर  कुछ  काम  सीख  लेगा , पर  नहीं - इनका  कभी  भला  नहीं  करना  चाहिए। "

                  वह  बच्चा  सर  झुकाए  गिरे  हुए  कप  को  उठा  रहा  था। उसकी  आँखों  से  आंसू  की  दो  बूंदें गिर  पड़ीं। बाकि  सारे  लोग  ठहाकों  के  बीच  चाय - नाश्ते  का  लुत्फ  उठाने  लगे।

                                                                              इसी  लाइफ  में . फिर  मिलेंगे।